?? ??????? ???? ???????????? ??!

Sharing is Caring

भारत के पूर्व शहरी विकास और सूचना प्रसारण मंत्री वैंकइया नायडू को NDA ने अपना उप राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार घोषित किया है। इस चुनाव मे नायडू का मुकाबला महात्मा गांधी के पोते गोपाल कृष्ण गांधी से होगा। उपराष्ट्रपति पद के चुनाव में कई ऐसे कारण है जो नायडू और NDA की जीत कि तरफ इशारा करती है। इसमे सबसे मुख्य बात यह है कि वह RSS के विचारधार से प्रेरित हैं, दूसरी मुख्य बात यह है कि वह दक्षिण भारत से आते हैं। जहां बीजेपी का प्रदर्शन उम्मीद के मुताबीक नही रहा है। बीजेपी के कई अन्य मंत्रीयों कि तरह वैंकइया नायडू के राजनैतिक जीवन की शुरूवात राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ से हुइ थी, महज 10 वर्ष की आयु में नायडू शाखा से केवल कबड्डी खेलने के विचार से जुड़े थे।भारतीय जनता पार्टी में नायडू के पारी की शुरूवात पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी के शासनकाल मे हुई। वैंकइया के साथ पहली मुलाकत में ही वाजपेयी ने उन्हे MLA बनाने का विचार बना लिया था। उसके बाद उन्होंने बीजेपी के प्रवक्ता और फिर कई अन्य पदो का भी कार्यभार संभला। नायडू की खास बात यह रही की वह हिंदी, अंग्रेजी और तेलगू भाषा को एक सुर मे बोल सकते हैं।नायडू बीजेपी के लिए एक सबसे भरोसेमंद चेहरा हैं जो चार बार राज्यसभा में एमपी रह चुकें थे। उपराष्ट्रपति पद का नामंकन भरने से पहले नायड़ू सूचना प्रसारण और औधगिक विकास मंत्रालय जैसे अहम मंत्रालय की जिम्मेदारी संभाल रहे थे।

Watch the Video below

You may also like...

Leave a Reply